June 5, 2020

लॉकडाउन ने नहीं देखने दिया मृतक बेटे का मुंह, लॉकडाउन खत्म होते ही घर आने का किया था वादा !

यह बेरहम कोरोना वायरस के वजह से लोग अपने बच्चे तक से नही मिल पा रहे है, इसी लिए तो सरकार 21 दिनों की लॉकडउन कर दिया, और फिर लॉकडाउन करने के लिए बैठक पर बैठक हो रही है क्यों हम आपको बता दे कि देश में कोरोना वायरस की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, जिसके कारण सरकार अपने राज्य से दूसरे राज्यों में कमाने गए है लेकिन अब अपने घर आने में असमर्थ है, ऐसे में हम आपको बता दे कि जो लोग बाहर गए है उसमे से कई की खबर मरने की आई है, ऐसे ही खबर झाऱखंड सिमडेगा गांव में तब मिला जब 20 वर्षीय युवक मजदूरी करने गोवा गया था और घर आने की बात मां से कही थी मां उनकी आने की इंतिजार कर ही रही थी कि बेटे की मौत की खबर आते ही उन्हें बेहोस कर दिया ।

आगे पढ़ें- जब गांव में निकला चीता, तो दो लोगों को किया जख्मी, फिर क्या हुआ ?

जानकारी के अनुसार हम आपको बता दे कि लॉकडाउन के दौरान झारखंड के सिमडेगा के रहनेवाले एक युवक की गोवा में मौत हो गई, युवक का नाम अर्जुन था, घटना की जानकारी मिलने के बाद अर्जुन के गांव में कोहराम मचा है, उसके परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है, परिजनों ने बताया कि अर्जुन ने लॉकडाउन से पहले अपनी मां को फोन किया था और इस दौरान उसने घर लौटकर आने की बात कही थी, लेकिन लॉकडाउन के कारण वह अपने गांव वापस नहीं आ सका, अर्जुन जिले के जलडेगा प्रखंड के बरकीटांगर गांव का रहनेवाला था, उसकी मां सरस्वती देवी और पिता रामकुमार बड़ाइक को अभी भी अपने बेटे का इंतजार है, लेकिन 20 साल के अपने बेटे को परिजन अंतिम समय में भी नहीं देख पाएं, गोवा में ही अर्जुन का अंतिम संस्कार कर दिया गया, जानकारी मिली कि गोवा के एक होटल में वह काम करता था और कई दिनों से बीमार था, उसका वहां अस्पताल में इलाज चल रहा था, परिजनों के अनुसार, अर्जुन ने गोवा से घर लौटने के लिए टिकट बुक कराया था, लेकिन अगले दिन से पूरे देश में लॉकडाउन लागू हो गया, इस कारण वह घर नहीं लौट सका. इस बीच अर्जुन की हालत सीरियस हो गई, इलाज के दौरान रविवार को उसकी अस्पताल में मौत हो गई ।

आगे पढ़ें-प्रेमी युगल को मोहल्ले वालों ने करा दी शादी

वही मौत की खबर सुनते ही मृतक अर्जुन की मां बेहोस हो गई तो भाई और बहन का रो-रो कर बुरा हाल हो गया है,वही परिवार के साथ साथ ग्रामिणों के बीच भी इस बात का अफसोस है ग्रामिणों ने बताया कि युवक काफी अच्छा स्वभाव का था, लेकिन घर की हालात देखकर वो बाहर मजदूरी करने चला गया ।वही उनकी मां बार बार यह कह कर रो रही थी कि अर्जुन कर का बड़ा लड़का था । लेकिन अब वो अपने परिवार में नही रहा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *