April 8, 2020

सीएम के कर्मभूमि पर मरीज लोग करते है खाट एंबुलेंस का उपयोग, जाने क्या है वजह ?

झारखंड की सरकार जहां विकास को लेकर काम कर रही है तो वही दूसरी तरफ दुमका गांव के लोग आज भी मूलभूत सुविधाओं से दूर है, अगर किसी व्यक्ति को किसी प्रकार की कोई तबियत खराब हो जाती है या फिर किसी महिला को कोई परेशानी होती है तो उसे खाट का बना एंबुलेंस पर 2 किलोमीटर तक जाना पड़ता है, जबकि सरकार लगातार आम लोगों के लिए सड़क, स्वास्थ्य, बिजली और पानी देने की बात तो करती है लेकिन लोग अब भी मूलभूत सुविधाओं से दूर है, लेकिन उपराजधानी दुमका में एक ऐसा गांव है जहां किसी के तबियत खराब होने पर आदिवासी लोग खाट का जुगाड़ से कंधे पर रख कर अस्पताल तक लेकर जाते है और उसका जान बचाते है,

आगे पढ़ें- पटना में दिनदहाड़े एक शख्स की मारी गोली, बड़ा सवाल कब रूकेगी ये घटनाएं?

दरअसल, दुमका का जरमुंडी प्रखंड क्षेत्र का जनक पुर पंचायत का हाथ घर गांव जहां आदिवासी संथाल समाज के लोग रहते है वहा ग्रामीण मरीज को अस्पताल ले जाने के लिए खटिया एंबुलेंस का उपयोग करते है और वह खटिया में मरीज को लेकर 2 किलोमीटर का रास्ता तय करते है, वही अगर किसी का तबियत खराब होता है तो पहले ग्रामीण इक्कठा होते है और मरीज को खाट पर बैठा कर खाट को अपने कंधे पर रख कर इजाल के लिए अस्पताल पहुंचते है, हम आपको बता दे कि महज 3 किलोमीटर का रास्ता अभी तक नही बन सका, जिस कारण आए दिन आदिवासी ग्रामीणों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है,

आगे पढ़ें- बालू माफियाओं पर प्रशासन का चला डंडा, बालू लदे वाहन के साथ 3 गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार अगर कोई ग्रामीण या गर्भवती महिला को अस्पताल ले जाना हो तो, उन्हें एकमात्र खटिया एंबुलेंस का ही सहारा लेना पड़ता है, वही जब स्थानीय नेता समस्या को ठीक नही कर पाए तो गांव के कुछ युवा समाज कर्ता आगे आकर समाज सेवा के माध्यम से आदिवासी गांव के मरीज को खटिया में लेटाकर उन्हें एंबुलेंस तक पहुंचाते हैं और मरीज का सहारा बनते हैं, सोचने वाली बात यह है कि जब खबर सामने आई है तो तो कृषि मंत्री और स्थानीय विधायक अब सड़क को बनवाने की बात कर रहे है, जब कि यहा के विधायक दोबारा इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे है, और झारखंड के सीएम हेंमत सोरेन की कर्मभूमि जबकी दुमका ही है, लेकिन गांव की सड़क आज तक नही बन पाई,

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *