April 8, 2020

विपक्ष ने सदन के बाहर किया हंगामा, सीएम ने कहा सदन को मछली बजार न बनाएं

झारखंड के विधानसभा सदन में बजट सत्र की कार्यवाही शुरु होने से पहले ही बीजेपी के विधायकों ने सदन के बेल में आ कर जमकर हंगामा किया, और सरकार पर आरोप लगाया कि प्रदेश में आपराधिक मामले ज्यादा हो रहे है, वही इसके बाद भाजपा विधायक अनंत ओझा ने लोहरदगा हिंसा मामले को लेकर प्रस्ताव दिया, जिसे स्पीकर ने अस्वीकार कर दिया। इसके बाद भाजपा विधायक वेल में जाकर हंगामा करने लगे। वही यह सब देखकर झारखंड के सीएम सोरेन ने कहा कि विपक्ष के सदस्य अपनी बातों के एक-एक कर रखें, वे क्या बोल रहे हैं, समझ नहीं आता है, ऐसे में सवालों का जवाब देना मुश्किल है। साथ ही उन्होंने कहा कि विपक्ष सदन को मछली बाजार न बनाए।

आगे पढ़ें-घूस लेने वाले झारखंड दूरदर्शन के पूर्व डिप्टी डायरेक्टर को 4 साल की सजा

दरअसल लोहरदगा में सीएए के समर्थन में जुलूस निकाला गया था जिसमें कुछ लोगों रैली पर हमला कर दिया जिसे लेकर आज बीजेपी विधायकों ने प्रदर्शन किया और कहा कि प्रदर्शन के दौरान हुए हिंसा में सरकार से उच्च स्तरीय जांच की मांग की, वही बीजेपी  विधायक ने कहा कि राज्य के अन्दर आपराधिक मामले बढ़ गए है जिसे लेकर सरकार चिंतित नही है, साथ ही उन्होंने कहा कि लोहरदगा की घटना सत्ता प्रस्तावित घटना थी। जब सीएए के समर्थन को लेकर अधिकारियों के संरक्षण में प्रदर्शन किए जा रहे थे तो ऐसे में असामाजिक तत्वों ने कैसे हमला किया? उन्होंने सरकार पर सवाल भी उठाए और सरकार से  मांग करते हुए कहा कि पूरे मामले की जांच झारखंड हाईकोर्ट के सिटींग जज से करवाई जाए और साथ ही पीड़ितो को उचित मुआवजा भी दिया जाए।

आगे पढ़ें- गिरफ्तार करने गई थी पुलिस, कुते के गले में 6 तोले की चेन देख कर रह गई दंग

वही कुछ बीजेपी विधायको ने चंदनकियारी की घटना को याद दिलाते हुए कहा कि सीएए की समर्थन में जहा भी रैली निकाली गई है वहा-वहा सीएए  के समर्थन कर रहे लोगों पर हमला हुआ है, सीएए के समर्थन में निकाली गई रैली में अधिकारियों के सामने हमला हुआ और पथराव भी किया गया, लेकिन सरकार का कोई भी नेता या अधिकारी अभी तक लोहरदगा पीड़ितों से मिलने नहीं गए हैं। उन्होंने पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग करते हुए कहा कि जल्द से जल्द आरोपियों की गिरफ्तरी की जाए, साथ ही सरकार के कार्यनीति पर सवाल उठाते हुए कहा कि पिछले पांच वर्ष की सरकार में कभी भी और कही भी राज्य में कर्फ्यू नहीं लगा,लेकिन इस सरकार बने हुए ठीक से तीन महिले भी नही हुए और राज्य में कफ्यू लगा दी गई, सरकार को इसे गंभीरता से लेना चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *