जानिए वैज्ञानिक कारण क्या है मकर संक्रांति के, क्या होता है इस दिन फायदा
Sun. Jan 26th, 2020

जानिए वैज्ञानिक कारण क्या है मकर संक्रांति के, क्या होता है इस दिन फायदा

MAKAR SANKRANTI SCIENTIFICALLY REASON

पटना – कहते है मकर संक्रांति के दिन स्नान और दान पुण्य करने से कई गुना फल मिलता है. और इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी को पड़ रही है. कहा जाता है कि, मकर संक्रांति पर भगवान सूर्य की विशेष पूजा-अर्चना करने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

ये भी पढ़ें : जदयू का चूड़ा-दही भोज, सीएम नीतीश समेत एनडीए के सभी नेता और कार्यकर्ता होंगे शामिल

इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी को सुबह 7 बजकर 19 मिनट से आरंभ होगी. यह बहुत ही शुभ समय माना जा रहा है. शुभ कार्यों की शुरुआत संक्रांति के पश्चात ही होती है.पर क्या आप जानते है कि मकर संक्रांति में वैज्ञानिक महत्व क्या है?

आइए जानते हैं मकर संक्रांति का वैज्ञानिक महत्व..

1- मकर संक्रांति के समय नदियों में वाष्पन क्रिया होती है.इससे तमाम तरह के रोग दूर हो सकते हैं.इसलिए इस दिन नदियों में स्नान करने का विशेष महत्व है.

2 – मकर संक्रांति के समय उत्तर भारत में ठंड का मौसम रहता है.इस मौसम में तिल-गुड़ का सेवन सेहत के लिए लाभदायक रहता है. चिकित्सा विज्ञान भी यही कहता है. और इससे शरीर को ऊर्जा मिलती है.यह ऊर्जा सर्दी में शरीर की रक्षा करती है.

3 – इस दिन खिचड़ी का सेवन करने का भी एक वैज्ञानिक कारण है.खिचड़ी पाचन को दुरुस्त रखती है.अदरक और मटर मिलाकर खिचड़ी बनाने पर यह शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है. और बैक्टीरिया से लड़ने में मदद करती है।

4 – पुराण और विज्ञान दोनों में सूर्य की उत्तरायन स्थिति का अधिक महत्व है.सूर्य के उत्तरायन होने पर दिन बड़ा होता है.और इससे मनुष्य की कार्य क्षमता में वृद्धि होती है.मानव प्रगति की ओर अग्रसर होता है. प्रकाश में वृद्धि के कारण मनुष्य की शक्ति में वृद्धि होती है.

5 – इस दिन से रात छोटी और दिन बड़े होने लगते हैं। दिन बड़ा होने से सूर्य की रोशनी अधिक होगी और रात छोटी होने से अंधकार कम होगा। इसलिए मकर संक्रांति पर सूर्य की राशि में हुए परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होना माना जाता है.


 

 

 

 

 

Like, Follow and Subscibe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed