April 4, 2020

महिला दिवस पर T-20 विश्वकप में हारी भारतीय महिला टीम, लेकिन सम्मान बरकरार !

पटना डेस्क : अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर  T-20 विश्वकप में भले ही भारत को जीत नहीं मिली है। लेकिन इस हार में भी गौरव और गरिमा की जीत छिपी हुई है। गौरव है पहली बार फाइनल में प्रवेश करने का और गरिमा है भविष्य की उम्मीद जगाने की।  हलांकि इसको लकर खास कर क्रिकेट प्रेमी काफी दुखी हैं। देश में सभी को उम्मीद थी कि इस साल अपना बेहतर खेल दिखाने वाली भारतीय महिला क्रिकेट टीम पहली बार फाइनल में पहुंची हैं तो कप लेकर ही वापस आएंगी। लेकिन इस बार भी ऑस्ट्रेलिया ने अपनी बादशाहत बरकरार रखते हुए 5वीं बार जीत दर्ज की है।

ऑस्ट्रेलिया के सामने नहीं दिखा भारत का दम !

मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए आईसीसी वुमन्स टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत को 85 रनों से शिकस्त देकर ऑस्ट्रेलिया ने 5वीं बार वर्ल्ड चैंपियन का खिताब अपने नाम किया है। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान मेग लैनिंग ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी थी। ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के दम पर मेजबान टीम ने भारत के सामने 185 रनों का लक्ष्य रखा था। इसके जवाब में उतरी भारत की सलामी जोड़ी रंग में नहीं दिखी और शेफाली वर्मा 2 रन बनाकर आउट हो गई। इसके बाद मंधाना से उम्मीदें थीं लेकिन वह कमाल नहीं कर पाई। भारतीय पारी लड़खड़ा गई। दीप्ति ने पारी को संभालने की कोशिश की और 33 रनों की पारी खेली लेकिन पूरी टीम 99 के स्कोर पर सिमट गई। जिसके चलते ऑस्ट्रेलिया ने 5वीं बार खिताब पर कब्जा जमाया है।

आखिर क्यों हारी भारतीय क्रिकेट टीम ?

वहीं अब इस हार के साथ ही भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर के लिए जहां 2017 बेहतर लेकिन आइसीसी टी-20 वर्ल्ड कप 2020 अच्छा नहीं रहा है। और क्रिकेट प्रशंसक उनसे काफी उम्मीदे पाल रखे थे जो पूरा नहीं हुआ और हार की जिम्मेदारी भी उन्हीं के सर मढ़ रहे हैं। इस पूरे विश्व कप में फेल रहने के बाद माना जा रहा था कि अपने जन्मदिन पर हरमन अच्छा प्रदर्शन करके भारत को विश्व कप जिताने में सफल रहेंगी, लेकिन वह अन्य बल्लेबाजों की तरह कुछ खास नहीं कर सकीं। हरमनप्रीत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ फाइनल मुकाबले में सिर्फ 4 रन का योगदान दिया। उन्हें जेस जोनसेन ने आउट किया।

भारतीय महिला टीम की कप्तान हरमन प्रीत कौर

 

यह टूर्नामेंट उनके लिए इतना खराब रहा कि उन्होंने जितना रन 2018 टी-20 विश्व कप के एक मैच में बनाया था, उतना वो इस साल के पूरे टूर्नामेंट में नहीं बना सकीं।  हरमनप्रीत के लिए यह टूर्नामेंट में काफी निराशाजनक रहा। उन्होंने इस टूर्नामेंट में 5 मैचों में 6 की औसत से केवल 30 रन बनाए। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 15 रन रहा। वहीं 2018 में टी-20 विश्व कप के पहले ही मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने 103 रन बनाए थे। यह टूर्नामेंट उनके लिए काफी शानदार रहा था। उन्होंने इस दौरान 45.75 की शानदार औसत से 183 रन बनाए थे। हरमनप्रीत टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में ऑस्टेलिया की एलिसा हीली के बाद दूसरे नंबर पर रहीं। एलिसा ने छह मैच की 5 इनिंग में 56.25 की औसत से 225 रन बनाए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *