June 2, 2020

लॉकडाउन में भिखारियों के बीच खाने और रहने को थी मजबूर, प्रेम कर बैठे व्यक्ति ने की शादी, जाने पूरी बात ….

कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन के दौरान कई लोगों का जीवन जीना मुश्किल हो चुका है। जबकि गरीब एवं बेसहारा तबके को भोजन भी नहीं मिल पा रहा है। जिसे एक टाइम का भी भोजन पहले मिल जाता था, उसे अभी वह नसीब नहीं हो रहा है। हालांकि सरकार द्वारा कई प्रयास किए जा रहे हैं, कुछ हद तक सहायक भी हुए हैं। लेकिन एक कहानी ऐसी है कि कानपुर के रहने वाले एक व्यक्ति ने सड़क पर भीख मांग रही, भिखारियों के साथ रहकर खाना खाने को मजबूर लड़की को अपने साथ शादी के बंधन में बांधकर अपने घर ले गए।

 

बता दे की इस लड़की की कहानी बहुत ही दर्द भरी है।  जिसके माता-पिता अब इस दुनिया में नहीं थे।  जिसके बाद इसके भाई और भाभी ने मारपीट कर इसे बाहर निकाल दिया और कोई खोज खबर भी नहीं ली। इसके बाद यह मजबूर और बेसहारा लड़की नीर-छीर चौराहे के पास काकादेव इलाके में भिखारियों के साथ रहने को मजबूर हो गयी ।  जिसके बाद लॉक डाउन लगा दिया गया तो लड़की को जो भी खाना मिलता था, वह भी अब नहीं मिलने लगा। लेकिन वहां के रहने वाले लालता प्रसाद की भेंट खाना बांटने के दौरान उस लड़की नीलम से हुई। जिसके बाद उन्होंने अपने ड्राइवर अनिल से कहलाया कि वह रोज नीलम को खाना पहुंचा दिया करें। साथ ही वहां पर मौजूद अन्य जरूरतमंदों को ही खाना पहुंचाया जाए।

 

इसके बाद करीब 45 दिन तक वह व्यक्ति जिसका नाम अनिल था, लड़की का नाम नीलम था। उसके सहित वहां पर दूसरे भी जरूरतमंद लोगों को खाना पहुंचाता रहा। जिसके बीच दोनों एक दूसरे से प्रेम करने लगा। जब यह बात ड्राइवर अनिल के पिता को पता चली, तो उन लोगों ने उस लड़की नीलम की मर्जी जानना चाहे। तब लड़की ने शादी के लिए हाँ कह दी। दोनों की मर्जी जानने के बाद इन दोनों की शादी करवाई गई। फिर परिवार वालों के और लोगों के सहयोग से अनिल एवं नीलम को एक दूसरे के साथ विवाह करवा दिया गया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर चर्चा में है और खूब वायरल भी हो रहा है। अपने आप में एक गवाही है जिसने एक मानवता को शर्मसार होने से बचा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *