June 2, 2020

”स्वास्थ्य मंत्रालय” ने मरीजों एवं उसकी देखभाल करने वाले व्यक्तियों के जारी किये ‘दिशानिर्देश’

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा होम आइसोलेशन में रहने वाले मरीजों एवं उनकी देखभाल करने वाले व्यक्ति या स्वास्थ्यकर्मी के लिए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं। जिसमे मरीज एवं देखभाल करने वाले, दोनों ही व्यक्तियों को ट्रिपल लेयर मास्क पहनना जरूरी कहा है।

स्वाथ्य मंत्रालय द्वारा जारी किये गए दिशा निर्देश में मरीजों के लिए –    1- मरीज को हर वक्त ट्रिपल लेयर वाला मेडिकल मास्क पहनना होगा। साथ ही हर 8 घंटे में इसे बदलना होगा। अगर मास्क गीला या गंदा हो जाता है तब तो तुरंत ही बदलना पड़ेगा।

2- इस्तेमाल के बाद मास्क को डिस्कार्ड करने से पहले 1% सोडियम हाइपो-क्लोराइट से डिसइन्फेक्ट करना होगा।

3- मरीज को अपने कमरे में ही रहना होगा। घर के दूसरे सदस्यों खासकर बुजुर्गों और हाइपरटेंशन या दिल की बीमारी वाले लोगों से संपर्क नहीं होना चाहिए।

4- मरीज को पर्याप्त आराम करना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा पानी या तरल पदार्थ लेना चाहिए।

5- सांस की स्थिति पर नजर रखने के लिए जो निर्देश दिए गए हैं वे मानने पड़ेंगे।

6- साबुन-पानी या अल्कोहल वाले सैनिटाइजर से कम से कम 40 सेकंड तक हाथ साफ करना होगा।

7- पर्सनल चीजें दूसरों के साथ शेयर नहीं करनी चाहिए।

8- कमरे में जिन सतहों को बार-बार छूना पड़ता है (जैसे- टेबल-टॉप, दरवाजों के कुंडी और हैंडल) उन्हें 1% हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन से साफ करना चाहिए।

9- मरीज को डॉक्टर के निर्देश और दवाओं से जुड़ी सलाह माननी पड़ेगी।

10- मरीज अपनी हालत को खुद मॉनिटर करेगा। हर दिन शरीर के तापमान की जांच करेगा। अगर स्थिति बिगड़ने के लक्षण दिखें तो तुरंत बताना होगा।

जिसके बाद संक्रमित मरीज की देखभाल करने वाले व्यक्ति या स्वास्थ्यकर्मी के लिए स्वास्थ्य विभाग ने  ये 12 दिशानिर्देश दिए जारी किये है – 

1. मरीज के कमरे में जाने वाले व्यक्ति को भी ट्रिपल लेयर वाला मेडिकल मास्क पहनना होगा। साथ ही मास्क इस्तेमाल करते वक्त उसका सामने वाला हिस्सा नहीं छूना चाहिए। अगर मास्क गीला या गंदा हो जाए तो उसे तुरंत ही बदलना चाहिए।

2. देखभाल करने वाले को अपने चेहरे, नाक या मुंह को नहीं छूना चाहिए।

3. मरीज या उसके कमरे के संपर्क में आने पर हाथों को अच्छी तरह धोएं।

4. खाना बनाने से पहले और बाद में, खाना खाने से पहले, टॉयलेट जाने के बाद और जब भी हाथ गंदे लगें तो अच्छी तरह धोने चाहिए। हाथों को साबुन-पानी से 40 सेकेंड तक धोएं।

5. साबुन-पानी से हाथ धोने के बाद डिस्पोजेबल पेपर नैपकिन से पोंछने चाहिए। पेपर नैपकिन नहीं हो तो साफ तौलिए से हाथ पोंछे। गीला होने पर उसे बदल दें।

6. मरीज के शरीर से निकले फ्लुइड के सीधे संपर्क में नहीं आएं। मरीज को संभालते वक्त हैंड ग्लव्ज पहनें।

7. मरीज के साथ सिगरेट शेयर करने, उसके बर्तन, पानी, तौलिए और चादर के संपर्क में आने से बचें।

8. मरीज को खाना उसके कमरे में ही पहुंचाएं।

9. मरीज के बर्तन ग्लव्स पहनकर साबुन या डिटर्जेंट से साफ करें। ग्लव्स उतारने के बाद हाथ साफ करें।

10. मरीज के कमरे की सफाई करते वक्त, कपड़ों या चादर को धोने वक्त ट्रिपल लेयर मेडिकल मास्क और डिस्पोजेबल ग्लव्ज पहनें। ग्लव्स पहनने से पहले और उतारने के बाद अच्छी तरह हाथ धोएं।

11. इस बात का ध्यान रखें कि मरीज समय-समय पर दवाएं लेता रहे।

12. देखभाल करने वाला व्यक्ति या मरीज के नजदीकी संपर्क वाले लोग अपनी हेल्थ को खुद मॉनिटर करें। रोज शरीर के तापमान की जांच करें। कोरोना से जुड़े लक्षण दिखें तो तुरंत मेडिकल ऑफिसर से संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *