June 2, 2020

सौभाग्य के लिए किए जाने वाले वट वृक्ष पूजा पर दिखा लॉक डाउन 4.0 का असर, घर में मना… Watch Video

आज देश में सौभाग्यवती महिलाएं वट सावित्री की पूजा की रही है। आज के दिन महिलाएं अपने पति की लम्बी आयु की कामना के लिए यह व्रत कर रही हैं। हलांकि देश में कोरोना का कहर जारी है। जिससे बचने के लिए देश में लॉक डाउन 4 लागू है। वहीं लाक डाउन 4 का असर भी बट सावित्री पूजा पर देखने को मिला है। जिसके चलते महिलाएं घरों से बाहर नहीं गई। बल्की पूजा करने वाली महिलाओं ने घर में ही वट वृक्ष की स्थापना कर पूजा-अर्चना किया, और अपने पति की लम्बी आयु की कामना की।

कब और क्यों सौभाग्यवति महिलाएं करती है वट वृक्ष की पूजा ?

कहा जाता है कि यह व्रत महिलाएं अपने अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए हरेक साल जेष्ठ माह की अमावस्या को व्रत रखती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार जो व्यक्ति सच्चे मन से इस व्रत को करते हैं उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होने के साथ-साथ उनके पति की आयु लंबी हो जाती है। कई जगह इस व्रत को जेष्ट पूर्णिमा के दिन भी रखा जाता है। इस व्रत के कुछ नियम है जिनको महिलाएं पालन करती हैं, और आज लॉक डाउन के इस स्थिति में भी वह नजारा राजधानी पटना के अलावे राज्य के कई जिलों में देखने को मिला है। वहीं महिलाओं की आस्था और सौभाग्य के लिए किए जाने वाले इस पूजा पर इस विपदा की स्थिति में भी ज्यादा असर देखने को नहीं मिला। हलांकि महिला यह पर्व खासकर वट वृक्ष के नीचे जाकर पूजा-अर्चना करती हैं, साथी साथ पूजा के लिए माता सावित्री की मूर्ति, बांस के पंखे, लाल धागा, मिट्टी का दीपक, मौसमी फल, पूजा के लिए लाल कपड़े और कई सारी सामग्रियों के साथ पूजा-अर्चना करती है। लेकिन इस बार पूजा करने की समाग्रियां तो सारी दिखी पर यह नजारा वटवृक्ष के नीचे नहीं बल्कि लोगों के घरों में देखने को मिला। जहां महिलाएं घर से बाहर नहीं गई और अपने घर पर ही वट वृक्ष की स्थापना कर घर पर ही पूजा अर्चना किया।

क्यों होती है वट (बरगद) वृक्ष की पूजा-अर्चना ?

मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है कि इस दिन माता सावित्री ने अपने दृढ़ संकल्प और श्रद्धा से यमराज से अपने मृत पति सत्यवान के प्राण वापस पाए थे। इसलिए महिलाओं के लिए यह व्रत बेहद ही फलदाई माना जाता है। इस दिन सुहागन महिलाएं अपना श्रृंगार कर बरगद की पूजा करती हैं। इसके साथ ही वट वृक्ष की पूजा को लेकर ये भी कहा जाता है कि कहा जाता है कि वट वृक्ष की जड़ में भगवान ब्रह्मा, तना में भगवान विष्णु साथ ही पत्तियों में भगवान शिव का निवास होता है। जिसके कराण वट वृक्ष की पूजा कि जाती है। साथी ही इस दिन महिलाएं यम देव की पूजा भी करती हैं।

ये भी पढ़ें : ऐसे करे वट सावित्री पूजा, तो मिलेगा पूर्ण वरदान….जाने विस्तार से..!

वहीं लॉक डाउन के कारण आज घर से बाहर नहीं निकलने को लेकर महिलाओं का मानना है कि… अगर मन में श्रद्धा हो तो भगवान आपके घर भी आ सकते हैं… और इसी के साथ-साथ लॉक डाउन 4 में महिलाओं ने अपने और अपने समाज की स्वास्थ्य की भी कामना की… इसलिए वह अपने घरों से बाहर नहीं जा कर घरों में ही वटवृक्ष की स्थापना की और पूजा-अर्चना के पति की सुरक्षा के साथ ही देश की सुरक्षा के लिए मन्नत भी मांगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *