April 4, 2020

बेमौसम बारिश से किसान मायूस, लाखों का नुकसान, एआरजेपी ने की मुआवजे की मांग !

बिहार में बेमौसम बारिश ने किसानों की उड़ाई निंद

पश्चिमी विक्षोभ एवं चक्रवाती हवाओं के कारण बिहार में बीते दिनों हुई भारी बारिश ने रबी फसलों को काफी नुकसान पहुचाया है। जिसमें सबसे ज्यादा मसूर, चना, सरसों की फसल के साथ ही आम के मंजर को काफी नुकसान हुआ है। वहीं इस नुकसान का असर राजधानी पटना के किसानों को भी झेलना पड़ रहा है। जिससे यहां के किसना काफी परेशान और मायूस नज़र आ रहे है।

ये भी पढ़ें : 7 साल पहले ही कोरोना वायरस की हुई थी भविष्यवाणी, अब उठ रहे हैं सवाल !

पटनासिटी के मेहंदीगंज में सब्जी की खेती में जुटे किसान

आपको बता दें कि राजधानी पटना से सटे पटनासिटी के मेहंदीगंज इलाके के जल्ला स्थित किसानों को बिन मौसम बारिश ने लाखों का नुकसान पहुँचा दिया है। जिसमें किसानों को सबसे ज्यादा तेलहन फसल सरसो, राई, तीसी और दलहन में मसूरी, आलू, प्याज, गोभी समेत कई फसल भी प्रभावित हो गई है। ऐसे में कर्ज लेकर खेती करने वाले किसानो की परेशानी बढ़ गई है।

ये भी देखें : आखिर बिहार में क्यों हो रही पलायन, जाने चिराग ने बताया कौन है जिम्मेवार ?

वहीं किसानों का कहना है कि एक ओर महंगाई चरम सीमा पर है तो दूसरी ओर प्राकृतिक की मार ने किसानों की कमर तोड़ दी है। ऐसे में देखें तो लगता है कि खेती अब अभिशाप बन गया है। दूसरा कोई रोजगार न मिलने के कारण मजबूरी में उन्हें खेती करना पड़ता है। सरकार किसानों की समस्या से निपटने के लिए कई योजनाओ की घोषणा की है और किसानों को राहत पहुंचाने की बात कहती है पर सारी बाते सिर्फ कागजों पर सिमट कर रह गई है।

एआरजेपी ने किसानों के लिए सरकार से मांगा मुआवजा ।

वहीं बेमौसम बारिश और सूबे में किसानों को हुए नुकसान को लेकर अखिल राष्ट्रीय जनतांत्रिक पार्टी के सुप्रीमों विवेक शर्मा ने राज्य सरकार से मुआवजे की मांग की है। विवेक शर्मा ने सीएम नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी से अविलंब मांग करते हुए कहा है कि, सरकार को 31 मार्च से पहले किसी भी हाल में 15 हजार रुपये तक की मुआवजा राशि किसानों के खाते में भेजे। हलांकि नुकसान की जांच को लेकर उन्होंने कहा कि सरकार पहले पैसा भेजे फिर जांच कराती रहे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर सरकार किसानों के मुआवजे को लेकर फैसला नहीं लेती है तो पार्टी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करेगी।

पटना सिटी से मुकेश की रिपोर्ट

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *