April 5, 2020

दिल्ली सरकार ने कार्रवाई करने का दिया निर्देश, डॉक्टरों को मकान मालिक, नही कर सकते परेशान ।

कोरोना वायरस को लेकर पूरी दुनिया सहमा हुआ है ऐसे में इस समय सब कोई कोरोना वायरस को लेकर चर्चा कर हाल ही में यानी की कल ही पीएम मोदी ने देशवासियों को अपील करते हुए कहा कि आप सब 14 अप्रैल तक अपने घरो में रहे, और फिर पूरे देश में लॉकडाउन कर दिया गया, लेकिन खबर आ रही है कि कुछ ऐसे मकान मालिक है जो अपने मकान से डॉक्टरों को जाने को कह रहे है ऐसे स्थिति में सरकार ने कहा है कि अगर कोई व्यक्ति पहले से मकान में रह रहे लोगों को अपने मकान से निकालती है तो उसपर शक्त कार्रवाई होगी

आगे पढ़ें- चैत्र नवरात्र की हुई आज से शुरूआत, जाने नौ दिन होगी मां दुर्गा के इन नौ स्वरूपों की पूजा

हमे बता दे कुछ लोग ऐसे है जो कोरोना फैलने के डर से अपनी मकान खाली करवा रहे है जिससे लेकर केंद्र सरकार शक्त है, वो ऐले लोगो पर कार्रवाई करेंगी, ऐसे ही मामला दिल्ली है जहा फिजिशियन डॉक्टरों को कुछ मकान मालिक खाली करने या कुछ दिन जाने के लिए कह रहे है ऐसे लोगों पर दिल्ली सरकार ने शक्त सक्त कदम उठाते हुए उन मकान मालिक  पर कार्रवाई करने को कही है, हम आपको लगातार बता रहे है कि कोरोना को लेकर किसी भी प्रकार से डरना नही है बल्की घर से ना निकल कर इसे जरुर निपटना है, वही देश इस वक्त कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रहा है, प्रधानमंत्री ने 21 दिनों के लॉकडाउन का ऐलान किया है और लोगों से घर से बाहर ना निकलने की सलाह दी जा रही है,

आगे पढ़ें- बिहार में कोरोना वायरस की संख्या में बढ़ोतरी, जानिए कहां पर कितनी संख्या ?

हम आपको बता दे कि दिल्ली सरकार की ओर से सभी जिला अधिकारियों, पुलिस अफसरों से कहा गया है कि ऐसे मकान मालिक जो अपने घर पर रह रहे डॉक्टर, पैरामैडिकल स्टाफ या फिर हेल्थ केयर पर्सनल को तकलीफ पहुंचा रहे हैं या फिर परेशान कर रहे हैं, उनपर कड़ा एक्शन लिया जाएगा, क्यों कि कोरोना से लड़ने के लिए सबसे अहम लड़ाई डॉक्टर्स लड़ रहे हैं, लेकिन दिल्ली में कुछ मकान मालिक अपने यहां रह रहे डॉक्टरों को घर खाली करने को कह रहे हैं, अब दिल्ली सरकार ने ऐसे मकान मालिकों पर कड़ा एक्शन लेने के निर्देश दिए हैं, हम आपको बता देकि अभी तक डॉक्टरों को परेशान कर रहे मकान मालिक पर सिर्फ दिल्ली सरकार ही बोला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *