April 5, 2020

COVID-19: केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में ‘सोशल डिस्‍टेंसिंग’, दूर-दूर रहीं कुर्सियां

पटना डेस्कः- कोरोना वायरस जिससे पूरी दुनिया त्रस्त है। वहीं इसको लेकर भारत सरकार ने एहतियात के तौर पर पूरे भारत में पूरी तरीके से लॉक डाउन कर दिया है। आपको बता दें कि इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोशल डिस्टेंसिंग की बात कही और लोगों से अपील की कि सोशल डिस्टेंसिंग का उपयोग किया जाए। इससे दूसरा बेहतर उपाय कुछ नहीं हो सकता है। केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग देखने को मिली। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में भी एक दूसरे से दूरी बना कर बैठा। आपको बता दें कि मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए भारत में पूरी तरीके से लॉक डाउन के घोषणा की थी।

ये भी पढ़ेंः- कोरोना से हाहाकारः इन फोन नम्बरों पर कॉल करके पा सकते हैं मदद

इसके बाद उन्होंने कहा था कि लॉक डाउन का पालन प्रधानमंत्री को भी करना है और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन प्रधानमंत्री को भी करना है। वहीं इसके तहत आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में सोशल डिस्टेंसिंग देखने को मिली। इस दौरान कुर्सियों को एक-दूसरे से काफी दूरी पर लगाया गया। जहां तमाम कैबिनेट के मंत्री बैठे और कोरोना वायरस को लेकर तमाम चर्चाएं हुई। भारत में मरीजों की संख्या बढ़कर 500 से ज्यादा हो गई है जबकि मरने वालों की संख्या 11 हो गई है।

ये भी पढ़ेंः- दिल्ली सरकार ने कार्रवाई करने का दिया निर्देश, डॉक्टरों को मकान मालिक, नही कर सकते परेशान ।

आपको बता दें कि इस दौरान कई लोग ठीक भी हो रहे हैं। वहीं मरीजों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है जिसको रोकने के लिए एहतियात के तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में पूरी तरीके से लॉक डाउन करने की घोषणा की थी। इस दौरान उन्होंने राज्य सरकारों से अपील की थी कि इसका पालन सख्ती से और पूरी तरीके से किया जाए। आपको बता दें कि सोशल डिस्‍टेंसिंग न केवल आम जनता बल्‍कि नेता भी अपना रहे हैं। इस बात का प्रमाण आज के केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में भी देखने को मिला है। जहां कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए बुधवार को आयोजित केंद्रीय मंत्रिमंडल के बैठक में भी ‘सोशल डिस्‍टेंसिग’ की नीति अपनाई गई। यह बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता में नई दिल्ली के 7 लोक कल्‍याण मार्ग पर की गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *