April 8, 2020

कोरोना वायरस की संख्या में बढ़ोतरी, भारत में 415 हुए कोरोना के मरीज

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमक को देखते हुए जहा पूरी दुनिया में चिंता का विषय बना हुआ है तो वही भारत भी कोरोना वायरस से बचने के लिए लगातार कोशिश कर रही है, बीते गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी खुद टीवी औऱ रेडियों पर आकर, लोगों को अह्वाहन करते हुए लोगों से अपील की, कि आप खुद जनता कर्फ्यू लगाए, और 22 भारत को जनता कर्फ्यू लगा भी, लोगों ने पीएम के अपील पर पुरी तरह से खरे उतरे, वही अब बिहार में कोरोना वायरस की बढ़ती संख्या को देखते हुए बिहार सरकार ने 31 मार्च तक बिहार को लॉकडाउन करने का फैसला लिया तो ठिक झारखंड ने भी अपने राज्यों को 31 मार्च तक के लिए लॉकडाउन कर दिया है ।

आगे पढ़ें- देश में कोरोना वायरस का संक्रमण सामुदायिक स्तर पर होना हो गया है शुरू ?

बताया जा रहा है कि संक्रमण  की बढ़ते खतरे को देखते हुए आज से बिहार-झारखंड सहित देश के 23 राज्यों में 82 जिले 31 मार्च तक लॉकडाउन कर दिया गया है, इसके अलावा 31 मार्च तक देश में सभी यात्री रेलगाड़ियों को भी बंद रखने का फैसला लिया गया है, इस घातक वायरस की चपेट में आकर देश में अब तक 7 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि संक्रमितों की संख्या 387 हो गई है, आज सुबह 6 बजे से लॉकडाउन के दौरान जहां तमाम चीजों पर पाबंदी होगी, तो इसका असर दिल्ली बजट सत्र पर भी देखने को मिल रहा है,

आगे पढ़ें- लॉकडाउन को लेकर दुकानों में बढ़ी भीड़

वही हम आपको बता दे कि दुनिया भर में कोरोना वायरस के वजह से हाहाकार मचा हुआ है, ऐसे में दुनिया में कोरोना वायरस ने 14000 से ज्यादा लोगों की जान चली गई है, वहीं इटली में कोरोना वायरस के कारण होने वाली मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है, इटली में रविवार को 651 नई मौतें दर्ज की गई है, इसके साथ ही इटली में मरने वालों की संख्या 5500 के करीब पहुंच चुकी है, अमेरिका में भी मौतों का आंकड़ा 300 पार कर गया है,

वही भारत के महाराष्ट्रा में सबसे ज्यादा कोरोना वायरस के संक्रमण मरीज मिले है, जिसे देखते हुए सरकार ने 31 मार्च तक जहा ट्रेन को बंद किया है तो वही बिहारियों को अपने बिहार जाने के लिए कहा है, जिससे ध्यान में रखते हुए बिहार के लोग लगातार मुंबई से बिहार के लिए आगमन कर रहे है, और ऐसे नीतीश सरकार भी बाहर से आने वाले लोगों के लिए खास व्यवस्था बना रखा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *