April 8, 2020

कांग्रेस ने की भारत को लॉकडाउन करने की मांग, पीएम मोदी से जताया भरोसा, क्या जल्द होगा…

फाइल फोटो : पी चिदंबरम

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए पूरे देश में दहशत का माहौल है। तो वहीं इसको लेकर सरकार लोगों में जागरूकता फैलाने जुट हुई है। क्योंकि इसका सबसे ज्यादा असर लोगों के समपर्क में आने से फैल रहा है। जिसके चलते लोगों में जागरूकता जरूरी है। तो वहीं सोशल मीडिया में बढ़ते अफवाह और लॉकडाउन की खबरे लोगों को डरा रही है। इस बीच कांग्रेस नेता ने केंद्र की मोदी सरकार से लॉकडाउन करने की मांग की है।

कोरोना वायरस से पहले भी भारत ने देखा है कई और महामारी, करोड़ों की गई थी जान… जाने विस्तार से

दरअसल पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कोरोना वायरस को लेकर देश में लॉकडाउन करने की मांग की है। आपको बता दें कि पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने ट्वीटर पर आज यानी शनिवार को केंद्र सरकार से शहरों एवं नगरों में सब कुछ बंद करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय की जरूरत है कि मोदी सरकार कड़े सामाजिक और आर्थिक फैसले लेते हुए लॉकडाउन करे।

आपको बता दें कि कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस से लगता नहीं है कि एक सुसंगत योजना बन सकी है। ऐसे में जरूरी है कि सरकार लॉकडाउन पर विचार करे। उन्होंने कहा कि यह समय दुनिया से सीखने का है। अमेरिका में कैलिफोर्निया राज्य बंद हो गया है। जर्मनी में बवेरिया राज्य को लॉकडाउन किया गया है। वहीं कांग्रेस नेता अपने पोस्ट में कहा है कि ‘तमिलनाडु द्वारा अपनी सीमाओं को बंद करने के लिए उनकी सराहना करता हूं। ई. पलानीसामी को मजबूत होना होगा और तुरंत लॉकडाउन की घोषणा करनी चाहिए।’

साथ ही उन्होंने एक अन्य पोस्ट में ‘मैं तालाबंदी के करीब पहुंचने वाले उद्धव ठाकरे की भी तारीफ करता हूं। यह समय एक-एक कर कदम बढ़ाने का नहीं है। कठीन निर्णय लेते हुए सभी शहरों को लॉकडाउन किया जाना चाहिए।’ कांग्रेस नेता ने कहा कि एक बार जब तमिलनाडु और महाराष्ट्र तालाबंदी की घोषणा करते हैं, इसके साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार के साथ अपनी राजामंदी जताते हुए भरोसा दिया है कि, केंद्र निर्णायक रूप से कार्य करने का साहस जुटा सकता है।

बिहार और झारखंड के साथ ही राष्ट्रीय खबरों से हमेशा अपडेट रहने के लिए News One 11 के FACEBOOKYOU TUBE और Web Page से जुड़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *