April 8, 2020

मांझी के बयान से क्या महागठबंधन में पड़ सकता है दरार? या फिर यूं ही….

बिहार में विधानसभा चुनाव होने में अब कुछ ही महीने बाकी है, लेकिन बिहार में सीट बटवारे और सीएम पद के लिए अभी से महागठबंधन में अनबन जारी है, सोमवार को हम पार्टी के नेता और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने राजद पर कटाक्ष करते हुए कहा कि आरजेडी महागठबंधन में बड़े भाई की भूमिका में जरूर है, लेकिन वह बड़े भाई की भूमिका निभा नहीं पा रहा है, उन्होंने कहा कि अगर  ऐसी ही स्थिति बनी रही तो महागठबंधन के घटक दल मार्च के बाद कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं, वही आरजेडी ने मांझी के बयान पर पलटवार किया है,

आगे पढ़ें- वैशाली में छेड़खानी का विरोध करने पर युवती को पीटकर मार डाला

आरजेडी के विधायक भाई वीरेंद्र ने साफ करते हुए कहा कि जिसकी जितनी हैसियत है उसको उतने ही सीट मिलेगी, लेकिन जीतनराम मांझी जी दबाव ना डाले, उन्होंने कहा कि जीतन राम मांझी कही और से गाईड हो रहे है और अपने सहयोगियों को आंख देखा रहे है, लेकिन ये बिल्कुल गलत है, साथ ही उन्होंने कहा कि आरजेडी बड़े भाई की भूमिका बखूबी निभा रही है, और पार्टी सही समय पर अपना रुख साफ कर देगी,

आगे पढ़ें- कोरोना वायरस संदिग्ध मरीज पटना पीएमसीएच से हुआ फरार, सकते में प्रशासन

वही आरजेडी के बातो पर पलटवार करते हुए हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा ने भी जवाबी हमला बोला है, पार्टी मुख्य प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि  आरजेडी  हमें कम ना आंके क्यों कि मेरा बहुत बड़ा जनाधार है, और लोकसभा चुनाव के परिणाम ने साफ कर दिया था कि किसका कितना बड़ा जनाधार है, उन्होंने कहा कि बात रही गाईड होने की तो माझी जी कही से  गाईड नही होते, खुद देखे कि किसकी कितनी उम्र है, मांझी जी की उम्र तेजस्वी से तिनगुनू है, उन्होंने कहा कि पहले ये बताये कि तेजस्वी यादव कहा से गाइड होते है, ऐसे में देखने वाली बात ये होगी की आखिर महागठबंधन बना रहता है या फिर सीटों को लेकर अलग होती है, क्यों कि जाहीर सी बात है कि अगर पार्टी महागठबंधन से निकलती है तो दोनों पार्टियों का नुकसान उठाना पड़ सकता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *